बच्चों को टीबी से मुक्त कराने के लिए सामाजिक संस्थाओं के साथ मिलकर अभियान चलाने की अपील

सीवीआरयू, व पं. सुंदरलाल शर्मा विवि के दीक्षान्त समारोहों में शामिल हुईं राज्यपाल

बिलासपुर। प्रदेश की राज्यपाल व डॉ. सीवी रामन यूनिवर्सिटी की विजिटर आनंदी बेन पटेल ने कहा है कि विश्वविद्यालयों को शासकीय योजनाओं का लोगों के जीवन पर पड़ने वाले प्रभाव पर शोध होना चाहिए। उन्होंने टीबी से पीड़ित बच्चों की खोजकर उनकी देखभाल करने की अपील भी की।
सीवी रामन विवि के उपाधि-धारक।

बिलासपुर जिले के कोटा में स्थित डॉ. सीवी रामन् विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षांत समारोह में श्रीमती बेन ने 202 छात्र-छात्राओं को उपाधि पत्र व 99 छात्र-छात्राओं को स्वर्ण पदक प्रदान किया। इस अवसर पर अपने उद्बोधन में उन्होंने विश्व विद्यालय के प्रबंधन को इस बात के लिए बधाई दी कि उन्होंने 5 गांवों को गोद लिया है। उन्होंने अपेक्षा की कि इन गांवों में केन्द्र व राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ ग्रामीणों को मिले, इसका प्रयास होना चाहिए। इस पर अध्ययन भी होना चाहिये कि योजनाओं से उनके जीवन स्तर में किस तरह बदलाव आया है।  गांवों के सभी बच्चे प्रायमरी स्कूल में दाखिल हों और जो बच्चे 8वीं उत्तीर्ण हो जायें उन्हें 9वीं कक्षा में प्रवेश करायें।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ व मध्यप्रदेश में टीबी रोग एक बड़ी समस्या है। उन्होंने कहा कि टीबी से बच्चों को मुक्त कराने के लिए विश्वविद्यालय, सामाजिक संस्थाएं और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मिलकर काम करें। लायंस क्लबों, कॉलेजों विश्वविद्यालयों को टीबी पीड़ित बच्चों के देखभाल की जिम्मेदारी दें। वे इनको पौष्टिक आहार एवं फल आदि उपलब्ध कराने के लिए काम करें। मध्यप्रदेश में इस तरह का अभियान चलाया जा रहा है।

उन्होंने इस बात के लिए  सीवीआरयू को बधाई दी कि पूरे देश के विश्वविद्यालयों की स्वच्छता रैंकिंग में उनको तीसरा स्थान मिला हुआ है। दूसरे शैक्षणिक संस्थान भी इससे प्रेरणा लेंगे। उन्होंने कहा कि देश में सबने मन बना लिया है कि देश को, नदी के पानी को,स्कूल को और गांव को स्वच्छ रखना है।

राज्यपाल ने कहा कि प्रयागराज में कुंभ मेले के दौरान 22 करोड़ से अधिक लोगों ने गंगा में डुबकी लगाई। यह मैनेजमेंट और सोशल वर्क में अध्ययन का विषय होना चाहिए कि इतनी बड़ी संख्या में पहुंचने वाले लोगों के लिए प्रबंधन कैसे किया गया। सबसे बड़ी बात यह रही कि इस दौरान गंगा का पानी भी स्वच्छ रहा। आने वाले समय में बड़े आयोजन होंगे, जिसे इस अध्ययन से फायदा मिलेगा।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन के महाप्रबंधक सुनील कुमार सोइन थे। उन्होंने युवाओं से कहा कि कड़ी मेहनत करें, लेकिन परिणाम को लेकर चिंतित न रहें, जीवन में बहुत तनाव भी न लें। परिश्रम से सब-कुछ हासिल किया जा सकता है।

कुलाधिपति संतोष चौबे ने विश्वविद्यालय का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि यह प्रदेश का पहला निजी विश्वविद्यालय है और सबसे अधिक छात्र संख्या है। यह अकेला निजी विश्वविद्यालय है, जहां दीनदयाल कौशल विकास योजना संचालित है। उन्होंने सीवी रामन् विश्वविद्यालय के सामुदायिक रेडियो केन्द्र और दूरस्थ शिक्षा के बारे में भी बताया।

स्वागत उद्बोधन कुलपति आर पी दुबे ने दिया। उन्होने उपाधि धारण करने वाले छात्र-छात्राओं को शपथ दिलाई। राज्यपाल ने सीवी रामन् विश्वविद्यालय के प्रथम कुलपति रहे  ए. एस. झड़गांवकर को शॉल व श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। इस अवसर पर राज्यपाल व अन्य अतिथियों ने स्मारिका का विमोचन किया। कुलसचिव गौरव शुक्ला ने कार्यक्रम का संचालन किया।

राज्यपाल ने इससे पूर्व विश्वविद्यालय के सामुदायिक रेडियो केन्द्र का निरीक्षण किया। यहां छात्र-छात्राओं के लिए उनका संदेश भी रिकॉर्ड किया गया। राज्यपाल ने समारोह में आमंत्रित कोटा क्षेत्र के विभिन्न स्कूलों के बच्चों को फलों की टोकरी भेंट की। उपाधि धारकों के साथ राज्यपाल का फोटो-सेशन भी हुआ।

छत्तीसगढ़ निजी विश्वविद्यालय नियामक आयोग के अध्यक्ष अंजनी कुमार शुक्ला कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे। समारोह में अटल बिहारी बाजयेपी विश्वविद्यालय, बिलासपुर के कुलपति डॉ. गौरीशंकर शर्मा, सीवी रामन विवि के विभिन्न संकायों के संकायाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष, विभागीय अधिकारी कर्मचारी, प्राध्यापक, छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

ऐसी तालीम मिले कि वे आत्मनिर्भर बनें

पं. सुंदरलाल शर्मा मुक्त विवि में उपाधि पत्र वितरण।

विद्यार्थियों को ऐसी तालीम मिले कि वे स्वयं का रोजगार स्थापित कर आत्मनिर्भर बनें। इससे वे स्वयं और माता-पिता के पालन पोषण के साथ-साथ अन्य जरूरतमंद लोगों को भी रोजगार दे सकते हैं। छत्तीसगढ़ के राज्यपाल एवं कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने आज पंडित सुन्दरलाल शर्मा (मुक्त) विश्वविद्यालय के तृतीय दीक्षांत समारोह में उक्त बातें कहीं। राज्यपाल ने इस अवसर पर विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक एवं उपाधि प्रमाण पत्र वितरण किया।
पटेल ने कहा कि आज लाखों विद्यार्थी विभिन्न व्यवसायों का शिक्षा ले रहे हैं। वे विभिन्न बैंकों से मुद्रा लोन लेकर व्यवसाय प्रारंभ कर आगे बढ़ रहे हैं। विश्वविद्यालय एवं शासन ऐसे विद्यार्थियों का ध्यान रखें, ताकि वे भविष्य में मेहनतकश बने रहें। शासन के योजनाओं का लाभ उठाकर परिश्रम करते रहे, ताकि उन्हें किसी के समक्ष हाथ न फैलाना न पड़े।
समारोह में महात्मा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय वर्धा के कुलपति प्रोफेसर गिरीश्वर मिश्र ने दीक्षांत समारोह में विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं को अपनी शुभकामनाएं दी। समारोह में पंडित सुन्दरलाल शर्मा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ.वंशगोपाल ने विश्वविद्यालय का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। कुलसचिव डॉ.राजकुमार सचदेव ने उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल के संदेश का वाचन किया। समारोह में कुलपति डॉ.वंशगोपाल ने राज्यपाल को प्रतीक चिन्ह भेंट किया। दीक्षांत समारोह के पूर्व हेलीपेड पर कलेक्टर डॉ. संजय अलंग एवं पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा एवं अन्य प्रशासनिक अधिकारियों ने स्वागत किया।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here